एटा: उ.प्र. के प्रधानों की हत्याएं, जानलेवा हमलों एवं उत्पीड़न को रोका जाए: संतोष यादव प्रधान

संभल में प्रधान पति एवं पुत्र के परिजनों को दी जाए 40 लाख की मदद प्रवासियों के बनाए जाएं जाॅब कार्ड, ताकि उन्हें मिल सके मनरेगा कार्य

222
शुक्रवार को मुख्यमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन प्रशासनिक अधिकारी को सौंपते हुए प्रधान संगठन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष संतोष यादव व अन्य पदाधिकारीगण।

एटा। वैश्विक कोरोना महामारी संकट में उ.प्र. के प्रधान अपनी जान की बाजी लगाकर गरीब प्रवासियों की मदद कर रहे हैं। अखिल भारतीय प्रधान संगठन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष संतोष यादव के नेतृत्व में प्रधानों द्वारा 20 लाख 16 हजार रुपये मुख्यमंत्री कोविड केयर फंद में जमा किए हैं।

अ.भा. प्रधान संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष जितेन्द्र चैधरी एवं संतोष यादव की अपील पर उ.प्र. के प्रधानों द्वारा एक माह के मानदेय से 20 करोड़ 56 लाख रुपया दिया। उ.प्र. में राजनैतिक रंजिशों के कारण प्रधानों की हत्याएं, जानलेवा हमले किए जा रहे हैं, वहीं फर्जी जांच के नाम पर प्रधानों का उत्पीड़न किया जा रहा है। संभल में प्रधान पति छोटेलाल दिवाकर और पुत्र की हत्या के मामले में सरकार द्वारा 20-20 लाख रुपये आर्थिक मदद, शस्त्र लाइसेंस दिया जाए और उ.प्र. के प्रधानों के खिलाफ झूंठी शिकायत करने वालों पर कार्रवाई कर जेल भेजा जाए।

प्रवासियों के जाॅब कार्ड बनवाए जाएं, ताकि उन्हें मनरेगा का काम मिल सके और राशन उपलब्ध हो सके। शुक्रवार को मुख्यमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन प्रशासनिक अधिकारी को सौंपते हुए संतोष यादव के अलावा जिला प्रभारी एंटी कोरोना टास्क फोर्स एटा प्रदीप कुमार, अ.भा, प्रधान संगठन के जिलाध्यक्ष प्रवीन शर्मा सहित आदि ने मांगें उठाईं हैं।